भारत और इंग्लैंड के बीच अहमदाबाद में डे नाईट टेस्ट मैच खेला गया था और ये पिंक बॉल टेस्ट सिर्फ दो दिन चला था और इस पिच को लेकर काफी बातें भी हो रही थी लेकिन अब आईसीसी ने उस पिच को जिसपर डे नाइट टेस्ट मैच खेला गया था एवरेज करार दिया। यानि कि आईसीसी का कहना है कि वो औसत दर्जे की पिच थी। वहीं t20 फॉर्मेट की बात करें तो टी ट्वंटी की पिच को आईसीसी ने बेहतरीन बताया।

अहमदाबाद में खेले गए डे नाइट टेस्ट के बाद पिच पर जमकर बवाल मचा था जिसके बाद आईसीसी ने पेज को औसत रेटिंग दी है। मोटेरा की पिच पर खेला गया डे नाइट टेस्ट दो दिन में ही खत्म हो गया था। इसके बाद से पिच पर काफी विवाद उठ गया था। आईसीसी ने अपने नियम और दिशा निर्देश पेज पर सभी हालिया मैचों की रेटिंग अपडेट की है और तीसरे टेस्ट के लिए मोटेरा की पिच को औसत जबकि अंतिम टेस्ट के लिए इसे अच्छी रेटिंग दी है। पिछले दिनों जिस तरह से मैच के लिए इसे बहुत अच्छी रेटिंग दी गई थी।

दिलचस्प बात ये है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एससीजी पर खेले गए तीसरे टेस्ट के पिच को भी औसत रेटिंग मिली है। इंग्लैंड के खिलाफ गुलाबी गेंद का मैच 10 विकेट से जीता था जिसमें दोनों टीमें टर्निंग पिच पर 150 रन से ज्यादा का स्कोर बनाने में असफल रही थीं। भारत ने 145 बिना विकेट गवाएं और 49 रन बनाए थे जबकि इंग्लैंड की टीम अक्षर पटेल की गेंदबाजी के सामने दोनों पारियों में 112 और 81 रन ही बना सकी थी।

नरेन्द्र मोदी स्टेडियम की नई बनी पिच को अगर घटिया पिच करार दिया जाता है तो इस पर बैन लग सकता था। चेन्नई में खेले गए दूसरे टेस्ट को भी औसत रेटिंग मिली है जिससे भारत में खासकर सिरीज़ बराबर की थी। हालांकि पहले टेस्ट की पिच को बहुत अच्छी रेटिंग दी गई है जिसमें टीम ने जीत दर्ज की थी। आईसीसी को प्रत्येक टेस्ट एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय टी ट्वेंटी अंतरराष्ट्रीय मैच के लिए पिच और आउटफील्ड के प्रदर्शन पर रेटिंग मिलती है। पिच और आउटफील्ड को मैच के बाद आईसीसी मैच रेफरी द्वारा अंक दिए जाते हैं।

मतलब में नरेंद्र मोदी स्टेडियम के पिच पर बवाल मच गया था और इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ियों ने भी इसकी जमकर आलोचना की थी जिसके बाद पिच पर सवाल खड़े होने लगे थे लेकिन पिच पर ज्यादा बड़ी कोई बात नहीं उठी। हालांकि टी ट्वेंटी के मुकाबलों में पिच का रोल ठीक ठाक रहा और आईसीसी ने पिच को टी ट्वेंटी सिरीज़ के लिए पास कर दिया।

Author

Write A Comment